#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

अमेरिका ने लड़ी 20 साल जंग और हजारों गिराए बम, फिर भी तालिबान में कैसे रह गया दम, पढ़ें इनसाइड स्टोरी

563

करीब 20 साल तक अफगानिस्तान में जंग लगने के बावजूद अमेरिका के हाथ कुछ नहीं लगा। इस दौरान वह न तो तालिबान का कुछ बिगाड़ पाया और न ही अफगानिस्तान का कुछ बना पाया। इस दौरान बड़ी संख्या में अफगान नागरिकों की जान गई सो अलग। विडंबना यह है कि 19 अगस्त के दिन जिस दिन अफगानिस्तान में ब्रिटिश साम्राज्य से आजादी की जश्न होना चाहिए, वहां हवाओं में एक अजीब सा मातम घुला हुआ है। आइए पढ़ते हैं, अफगानिस्तान में अमेरिका के हालात की इनसाइड स्टोरी।

बेहिसाब खर्च और हजारों शहीद, फिर भी तालिबान बेलगाम

अगर सिर्फ रुपए के हिसाब से बात करें तो अमेरिका ने अफगानिस्तान में करीब एक लाख करोड़ रुपए खर्च कर डाले। इसके अलावा अमेरिका ने अफगानिस्तान में तमाम निर्माण कार्यों में भी पानी की तरह पैसे बहाए। बीस साल तक चली जंग उसके 2448 सिपाही भी शहीद हो गए। वहीं 1144 नाटो सिपाहियों की भी इस दौरान मौत हो गई। इस दौरान अफगानिस्तान की सरकारी फौज के 66 हजार सिपाही भी मारे गए।

 

जमकर हुई बमबारी

अमेरिका ने बीते 20 साल में अफगानिस्तान में जमकर बमबारी की है। आंकड़ों के मुताबिक इसमें सबसे ज्यादा बम साल 2019 में गिराए गए हैं। साल 2006 में सबसे कम 310 बम गिराए गए थे। वहीं साल 2010 में 5101 बम अमेरिका की तरफ से अफगानिस्तान में गिराए गए। वहीं 2015 में ऐसे बमों की संख्या 947 थी। जाहिर सी बात है कि इन बमबाजियों का एकमात्र उद्देश्य तालिबान पर लगाम लगाना था। लेकिन आज अफगानिस्तान के हालात सच्चाई खुद बयां कर रहे हैं।

इसके बावजूद परिणाम रहा जीरो

हैरानी की बात यह है कि इतने सारे प्रयासों के बावजूद अमेरिका तालिबान पर न तो नियंत्रण कर पाया न उसे नेस्तनाबूद कर पाया। जैसे ही अमेरिकी फौजों ने अपने देश का रुख किया, तालिबान ने दोगुनी ताकत के साथ वापसी की। आलम यह रहा कि तमाम देश अंदाजा ही लगाते रह गए और तालिबान फिर से अफगानिस्तान पर काबिज हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *