#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

एक से ज्यादा वाहनों का एक बीमा, अब अच्छी और सुरक्षित ड्राइविंग पर प्रीमियम में रियायत भी

140

एक से ज्यादा कार और दोपहिया वाहन होने पर अब एक ही बीमा पॉलिसी होगी। अलग-अलग गाड़ी के लिए कई पॉलिसी लेने की जरूरत नहीं है। भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने बुधवार को कहा कि यह स्वास्थ्य बीमा के फ्लोटर पॉलिसी की तरह होगा। यह बीमा कवर एड-ऑन आधार पर दिया जाएगा। इसे पॉलिसी में जोड़ा जाएगा। इसका मकसद देश में बीमा के कवरेज को बढ़ाना है।वहीं, सुरक्षित और अच्छे तरीके से गाड़ी चलाने पर मोटर बीमा के लिए प्रीमियम भी कम देना होगा। वहीं, नियमों को तोड़ने या गलत तरीके से वाहन चलाने पर ज्यादा प्रीमियम देना होगा। इरडा के बुधवार को जारी नए नियम के मुताबिक, अब प्रीमियम की रकम गाड़ी चलाने के तरीके पर तय होगी। दोनों नियम तुरंत लागू हो गए हैं।
निगरानी के लिए लगेंगे यंत्र
नए नियम टेलीमैक्स योजनाओं पर आधारित हैं। ये गाड़ियों के उपयोग और चालक के व्यवहार के आधार पर तय की गई हैं। इसके लिए गाड़ियों में एक छोटा सा डिवाइस (यंत्र) लगेगा। इसमें कहा गया है कि आप गाड़ी जितनी ज्यादा चलाएंगे, उतना ही ज्यादा प्रीमियम देना होगा।
बदलती जरूरतों से तालमेल बिठाएं
इरडा ने कहा कि बदलते समय के साथ अब जरूरतें भी बदल रही हैं। ऐसी स्थिति में बीमा कंपनियों को भी तकनीक के आधार पर अपने आप में बदलाव करना होगा, ताकि पैदा हो रही चुनौतियों से निपटा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *