#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

कोरोना की तीसरी लहर ना बन पाए कहर… जंबो कोविड सेंटर से जीतेंगे जंग

580

मुंबई
मुंबई में कोरोना की दूसरी लहर पूरी तरह से नियंत्रित में आ गई हो, लेकिन तीसरी लहर के कभी भी दस्तक देने की आशंका विशेषज्ञों ने जताई है। इससे निपटने के लिए बीएमसी पूरी तरह से जुट गई है। मुंबई में फील्ड अस्पताल यानी जंबो कोविड केयर सेंटर्स की शृंखला तैयार की जा रही है। चार नए जंबो सेंटर्स में से मालाड जंबो सेंटर्स तैयार है, साथ ही बीकेसी, मुलुंड और दहिसर जंबो सेंटर्स की मरम्मत पूरी हो चुकी है। बीएमसी प्रशासन के अनुसार इनमें प्रत्येक जंबो कोविड सेंटर्स में 250 बेड तीसरी लहर के दस्तक के साथ फौरन ऐक्टिवेट कर दिए जाएंगे।

मुंबई में फरवरी के दूसरे सप्ताह में कोरोना की दूसरी लहर ने दस्तक दी थी, जो अब नियंत्रित होती दिखाई दे रही है। रोजाना औसतन 30 हजार लोगों का कोरोना टेस्ट किया रहा है, जिसमें महज 1 प्रतिशत लोग ही कोविड पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। इसके बावजूद तीसरी लहर की आशंका और महामारी की रोकथाम को लेकर बीएमसी कहीं कोई कोताही नहीं बरतना चाहती है। इसके लिए प्रशासन द्वारा स्वास्थ्य मशीनरी को लगातार और मजबूत किया जा रहा है।

मलाड, कांजुरमार्ग, महालक्ष्मी रेसकोर्स और सायन के नए जंबो सेंटर्स से बीएमसी को 5500 बेड उपलब्ध होने वाले हैं, जिसमें 80 प्रतिशत बेड ऑक्सिजन युक्त होंगे। इनमें से मालाड जंबो सेंटर्स को तैयार कर एमएमआरडीए ने बीएमसी को गत दिनों हस्तांतरित कर दिया है। इसके अलावा मरम्मत के लिए कई महीनों से बंद पड़े बीकेसी, मुलुंड और दहिसर जंबो कोविड सेंटर्स भी तैयार हो चुके है। फिलहाल इन्हें अभी शुरू नहीं किया गया है।

बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने बताया कि वर्तमान में गोरेगांव का नेस्को, अंधेरी का सेवन हिल्स, वरली का एनएससीआई और भायखला का जंबो कोविड सेंटर्स शुरू हैं और फिलहाल मामले भी कम हैं। रोज मिलने वाले मरीजों में से 5 फीसद मरीज को ही अस्पताल की जरूरत पड़ती है। उन्होंने बताया कि संभावित तीसरी लहर जैसे ही दस्तक देगी, उसी समय बंद पड़े और नए जंबो सेंटर्स के बेड ऐक्टिवेट कर दिए जाएंगे। चरणबद्ध तरीके से इन सेंटर्स के सभी बेड्स ऐक्टिव कर दिए जाएंगे। पहले दौर में हर जंबो कोविड सेंटर में 250 बेड ऐक्टिवेट किए जाएंगे, जिनमें 70 फीसद बेड ऑक्सिजन युक्त, 10 फीसद आईसीयू, 10 फीसद वेंटिलेटर और 10 फीसद पीडियाट्रिक बेड्स होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *