#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

ग्राहकों की जेब कट रही, कंपनियों की झोली भर रही, पैसा 30 दिन का तो फिर वैलिडिटी 28 दिन की क्यों

76

इस वक्त देश में तीन ही प्रमुख टेलीकॉम कंपनियां हैं और इन सभी कंपनियों के प्लान धीरे-धीरे महंगे हो रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि प्लान की कीमतें तो बढ़ रही हैं, लेकिन प्लान की वैधता नहीं बढ़ रही है। पहले 30 दिनों के प्लान होते थे और अब अधिकतर मासिक प्लान 28 दिनों के हो गए हैं। आमतौर पर कोई महीना 30 दिनों या 31 दिनों का होता है, लेकिन टेलीकॉम कंपनियों के लिए महीना 28 दिनों का होता है। आइए इसके पीछे का गणित समझते हैं… ग्राहकों से पैसे लिए जाते हैं 30 दिनों के और रिचार्ज की वैलिडिटी होती है 28 दिनों की। ऐसे में साल में 12 महीनों के लिए ग्राहकों को 13 महीने का रिचार्ज करना पड़ता है और टेलीकॉम कंपनियों की झोली में एक महीने के रिचार्ज के पैसे मुफ्त में जाते हैं। इसकी शुरुआत 2016 हुई टेलीकॉम क्रांति के बाद से हुई थी। उससे पहले 30 दिनों की वैधता मिलती है, हालांकि बीएसएनएल के कई प्लान में अब भी 30 दिनों की वैधता मिलती है।

ग्राहकों की जेब कट रही है और कंपनियों की चांदी

यह पूरा का पूरा मार्केटिंग का तरीका है। उदाहरण के तौर पर यदि आप एक महीने में 28 दिन मान लेते हैं तो एक साल में 13 महीने हो जाएंगे। साल में 7 महीने ऐसे होते हैं जो 31 दिनों के होते हैं और चार महीने ऐसे होते हैं जो 30 दिनों के होते हैं। अब प्रति महीने का हिसाब लगाएं तो 31 दिन वाले महीने में से 28 दिनों के हिसाब से (7×3) = 21 दिन होते है। 3 दिनों वाले महीने के हिसाब से प्रति महीने (2×4) = 8 दिन हो जाएंगे। यदि फरवरी 29 दिन का है तो एक दिन और बढ़ जाता है। ऐसे में कुल मिलाकर (21+ 8 +1) = 30 दिन होते हैं और साल में 13 महीने हो जाते हैं। अब पिछले 8 साल से 30 दिन की जगह ग्राहकों को 28 दिनों की वैधता मिल रही है तो वॉचडॉग को इसकी कोई फिक्र ही नहीं है। टेलीकॉम रेगुलेटरी ऑथरिटी ऑफ इंडिया ने अभी इस मसले पर कभी बात करने की कोशिश नहीं की। साल 2021 में ट्राई ने इन कंपनियों को 30 दिनों के प्लान लॉन्च करने के लिए कहा था जिसके बाद इन कंपनियों ने 2-3 प्लान मासिक वैधता वाले लॉन्च तो किए लेकिन उसमें यूजर्स का नुकसान है, क्योंकि उन प्लान की कीमतें बहुत ज्यादा हैं और फायदे बहुत कम। ऐसे में 30 दिनों के प्लान को सिर्फ खानापूर्ति के लिए लॉन्च किया गया है।