#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

देश में हर मिनट 761 साइबर हमले, 2023 में करीब 85 लाख उपकरणों पर हुए 40 करोड़ से अधिक अटैक

127

भारत में 2023 में लगभग 85 लाख उपकरणों पर 40 करोड़ से अधिक साइबर हमले हुए हैं। यानी हर मिनट 761 साइबर हमले हुए। इनमें से सूरत (15 फीसदी) और बंगलूरू (14 फीसदी) में सबसे अधिक मामले देखे गए हैं। इनमें से 50 फीसदी से अधिक मीडिया और नेटवर्क ड्राइव से जुड़े हैं। डाटा सिक्योरिटी काउंसिल ऑफ इंडिया (डीएससीआई) की रिपोर्ट के मुताबिक, लगभग 25 फीसदी हमले ईमेल और वेबसाइटों में दुर्भावनापूर्ण लिंक पर क्लिक करने के कारण होते हैं। एंड्रॉयड डिवाइस के जरिये भी प्रति माह औसतन तीन हमले देखे गए है। रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसे फर्जी एप को लाखों उपयोगकर्ताओं की ओर से डाउनलोड किया गया है, जिनके जरिये डिवाइस में सेंध लगाई जाती है।

इसरो पर भी साइबर अटैक
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने हाल में ही कहा था कि देश की अतंरिक्ष एजेंसी हर रोज करीब 100 से अधिक साइबर हमलों का सामना कर रही है। केरल में अंतरराष्ट्रीय साइबर सम्मेलन का 16वां संस्करण आयोजित किया गया था। कोच्चि में आयोजित कार्यक्रम के समापन सत्र में सोमनाथ ने कहा था कि रॉकेट तकनीक में साइबर हमलों की संभावना बहुत अधिक है। साइबर आरोपी अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर और चिप का उपयोग करते हैं। हालांकि, इसरो ऐसे हमलों से निपटने के लिए तैयार है। हम मजबूत साइबर सुरक्षा नेटवर्क से लैस हैं। इसरो रॉकेट के अंदर हार्डवेयर चिप्स की सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित किए हुए है। इसके लिए वह विभिन्न परीक्षणों पर आगे बढ़ रहा है। भारत में पिछले छह महीनों में हर हफ्ते साइबर हमलों में तीन सेक्टर सबसे अधिक प्रभावित थे। इसमें स्वास्थ्य-सेवा, शिक्षा-अनुसंधान और यूटैलिटी शामिल हैं। चेक प्वाइंट की थ्रेट इंटेलिजेंस रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 6 माह में भारत में प्रत्येक सेक्टर पर प्रति सप्ताह औसतन 2,157 बार साइबर हमले हुए, जबकि वैश्विक स्तर पर प्रति संगठन 1,139 बार हमले हुए।  विशेषज्ञों ने कहा कि खुदरा, हॉस्पिटैलिटी, विनिर्माण और परिवहन क्षेत्रों को भी साइबर सुरक्षा पर तेजी से आगे बढ़ना होगा।