#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

‘पश्चिमी देशों को भारत से सीखने की जरूरत’, नोबेल विजेता ने सरकार के इस कदम की जमकर की तारीफ

148

नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक मोर्टेन मेल्डेल ने भारत के रिसर्च फंडिंग इकोसिस्टम की तारीफ की है और पश्चिमी देशों को भी भारत से सीख लेने की नसीहत दी है। मोर्टेन मेल्डेल इन दिनों भारत दौरे पर आए हुए हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि ‘भारत में रिसर्च फंडिंग इकोसिस्टम में वित्तीय मदद और अन्य सुविधाएं देने में बायोटेक्नोलॉजी इंडस्ट्री रिसर्च असिस्टेंट काउंसिल (BIRAC) अहम भूमिका निभा रहा है।’ मेल्डेल ने कहा ‘पश्चिमी देशों को भी भारत से सीखना चाहिए। पश्चिमी देशों में फंडिंग एजेंसीज अभी स्वतंत्र तौर पर काम करती हैं और उनमें बहुत अच्छा समन्वय नहीं है।’ मेल्डेल ने शुक्रवार को बायोटेक्नोलॉजी इंडस्ट्री रिसर्च असिस्टेंट काउंसिल का दौरा किया। यह एक सरकारी उद्यम है, जो डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के अंतर्गत काम करता है। BIRAC अकादमिक संस्थानों और इंडस्ट्री के बीच बतौर पुल के रूप में काम करता है।
2022 के नोबल पुरस्कार विजेता हैं मेल्डेल
डेनमार्क के वैज्ञानिक मेल्डेल ने कहा ‘BIRAC भारत में  इनोवेशन का संगठन है और यह कमाल का है। इसकी वजह से कई संगठन एक छत के नीचे आ गए हैं, इससे पूरी इनोवेशन की प्रक्रिया को बहुत सुविधा हुई है और खास बात है कि इसका सरकार से सीधा लिंक है।’ मेल्डेल ने शुक्रवार को केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और तकनीक जितेंद्र सिंह से मुलाकात की और द्विपक्षीय सहयोग और फार्मास्यूटिकल के क्षेत्र में सहयोग के मुद्दों पर चर्चा की। मेल्डेल को साल 2022 का रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार मिला था। भारत और डेनमार्क के सहयोग पर उन्होंने कहा कि दोनों देश रसायन के क्षेत्र में वैश्विक शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग कर सकते हैं।