#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

.बंगाल में सीट शेयरिंग पर कांग्रेस-तृणमूल की बातचीत रूकी, फिलहाल INDIA में ही रहेगी TMC

61

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले बड़ा घटनाक्रम सामने आया है। कांग्रेस पार्टी के सूत्रों ने कहा है कि 28 विपक्षी दलों के गठबंधन- INDIA में शामिल तृणमूल कांग्रेस (TMC) और सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के बीच सीट शेयरिंग को लेकर बातचीत रोक दी गई है। तृणमूल कांग्रेस के INDIA से बाहर निकलने की अटकलों पर कांग्रेस ने खारिज किया है। कांग्रेस का कहना है कि विपक्षी दलों के गठबंधन में तृणमूल अभी भी बनी हुई है। पार्टी ने गठबंधन से बाहर निकलने की पुष्टि नहीं की है। दोनों पक्ष पश्चिम बंगाल की लोकसभा सीटों को शेयर करने के फॉर्मूले पर मंथन कर रहे हैं।
टकराव की शुरुआत, रास्ते अलग होने की कयासबाजी
बता दें कि कांग्रेस सूत्रों का यह बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि लगभग हफ्ते भर पहले तृणमूल सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अकेले चुनाव लड़ने का एलान किया था। हालांकि, ममता ने गठबंधन से बाहर निकलने के संबंध में कोई बयान नहीं दिया था। ममता के बयान के बाद पश्चिम बंगाल कांग्रेस चीफ अधीर रंजन चौधरी ने भी आक्रामक तेवर दिखाते हुए कहा था कि कांग्रेस को किसी सहारे की जरूरत नहीं है। ऐसे बयानों के बाद कयास लगाए जाने लगे थे कि गठबंधन में शामिल TMC कांग्रेस की मांग नहीं मानेगी। इस कारण दोनों दलों के बीच समझौते की कोई गुंजाइश बाकी नहीं है।