#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

बेहद खास है हनुमान जी का ये मंदिर, यहां दर्शन के लिए पार करनी होती हैं 76 सीढ़ियां

32
भारत के तकरीबन हर राज्य में धार्मिक स्थल हैं। हर धार्मिक स्थल का अपना अलग इतिहास और मान्यता है। कई मंदिर तो ऐसे हैं, जहां लोग दूर-दूर से भगवान के दर्शन करने आते हैं। अब जब 23 अप्रैल को हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाया जा रहा है, तो आप भी इस खास दिन हनुमान जी के दर्शन को जा सकते हैं। हर साल हनुमान जयंती चैत्र मास के दौरान शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है। ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति इस दिन भगवान हनुमान की पूजा करता है, तो उसे मनचाहा वरदान प्राप्त होता है। ऐसे में अगर आप हनुमान जी के मंदिर में दर्शन को  जाना चाहते हैं, तो अयोध्या में एक ऐसा खास मंदिर है, जहां की मान्यता काफी अलग है। हम बात कर रहे हैं अयोध्या में स्थित हनुमानगढ़ी की, जहां भगवान राम ने लंका से लौटने के बाद अपने प्रिय भक्त हनुमान जी को रहने का आदेश दिया था।  अयोध्या में स्थित श्रीराम जन्मभूमि के बारे में तो हर कोई जानता है, लेकिन बहुत से लोगों को हनुमानगढ़ी के इतिहास का नहीं पता है। दरअसल, ये वही जगह है, जहां भगवान राम ने लंका से लौटने के बाद हनुमान जी को रहने का आदेश दिया था। इसे हनुमान जी के खास मंदिरों में गिना जाता है। इस मंदिर में हनुमान जी की जो मूर्ति विरामान है, वो भी बेहद खास है। यहां हनुमान जी लाल रंग में विराजमान है। हनुमानगढ़ी मंदिर में एक खास ‘हनुमान निशान’ भी है।
Hanuman Janmotsav 2024 hanuman garhi temple mandir in ayodhya facts history importance

ऐसी मान्यता है कि जब भगवान श्रीराम ने हनुमान की जो ये जगह रहने के लिए दी थी, तो उन्होंने ये वचन भी दिया था, कि जो भी व्यक्ति अयोध्या आएगा, वो सबसे पहले आकर हनुमानगढ़ी के ही दर्शन करेगा। तब से लेकर आजतक हर कोई जन्मभूमि जाने से पहले हनुमानगढ़ी जरूर जाता है।  बात करें यहां के मंदिर की रूपरेखा की तो यहां हनुमान जी के दर्शन के लिए आपको 76 सीढ़ियां चढ़नी पड़ेंगी। यहां जाकर आपको शांति का अनुभव होगा।

मंदिरों में दिखती है राम राज्य की छवि
इस मंदिर में जाते ही आपको रामराज्य की छवि देखने को मिलती है। यहां पर स्थित हनुमान जी की प्रतिमा हमेशा फूल- मालाओं से सुशोभित रहती है। इसके साथ ही हनुमानगढ़ी मंदिर की दीवारों में हनुमान चालीसा की चौपाइयां सुशोभित हैं। बहुत से लोग आज भी मंदिर परिसर में बैठकर ही राम नाम का सुमिरन और सुंदर कांड का पाठ भी किया करते हैं।