#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

वंदे भारत ट्रेनों में स्लीपर कोच जोड़ने की तैयारी, एक से दो हो सकती है संख्या

82

वंदे भारत ट्रेनों में एक-एक कर स्लीपर कोच भी जोड़े जाएंगे। इसकी शुरुआत लंबी दूरी की वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों से होगी। इन ट्रेनों में पहले एक से दो स्लीपर कोच जोड़े जाएंगे। प्रयागराज होकर चलने वाली वाराणसी-नई दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस में यह सुविधा सबसे पहले मिल सकती है। चेन्नई स्थित इंट्रीगल कोच फैक्टरी में वंदे भारत के स्लीपर कोच तैयार किए जा रहे हैं। रेलवे की स्लीपर वंदे भारत को मार्च 2023 तक चलाने की योजना है। इसके पूर्व स्लीपर कोच का फीडबैक लेने के लिए वर्तमान में चल रही कुछ वंदे भारत ट्रेनों में एक से दो स्लीपर कोच जोड़ने की योजना पर रेलवे काम कर रहा है। पहले चरण में प्रयोग के तौर पर यह कोच लंबी दूरी की वंदे भारत ट्रेनों में लगाए जाएंगे। जिन ट्रेनों में स्लीपर कोच लगाए जाएंगे उनमें वाराणसी-नई दिल्ली, रानी कमलापति-हजरत निजामुद्दीन, माता वैष्णो देवी कटरा-नई दिल्ली, नागपुर-इंदौर आदि वंदे भारत ट्रेन के नाम शामिल हैं। आईसीएफ चेन्नई में जो कोच बन रहे हैं, उनमें से एक-एक कर सिटिंग कोच लगाए जाएंगे। इसके किराये को लेकर रेलवे बोर्ड में मंथन चल रहा है। चर्चा है कि वर्तमान में चल रही एक्सप्रेस ट्रेनों के एसी टू श्रेणी से वंदे भारत के स्लीपर का किराया कुछ ज्यादा हो सकता है। किराये का निर्धारण होने के बाद संबंधित रेल मंडलों को भेज दिया जाएगा। वंदे भारत के स्लीपर कोच में कुल 51 सीटें रहेंगी। नई दिल्ली-वाराणसी वंदे भारत एक्सप्रेस की बात करें तो यह देश में निर्मित पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन है। यह एक मात्र ऐसी वंदे भारत एक्सप्रेस है जिसकी नई दिल्ली से प्रयागराज जंक्शन तक औसत स्पीड 100 किमी प्रति घंटा है। जनवरी 2024 में स्लीपर का एक से दो कोच इसमें लगा दिया जाएगा।