#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

विपक्षी दल की तीखी टिप्पणी के बाद नार्वेकर का पलटवार, अयोग्यता याचिका के फैसले का उठाया मुद्दा

49

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर को दलबदल कानून की समीक्षा समिति का अध्यक्ष बनाए जाने की बात प्रदेश में विपक्ष को पसंद नहीं आ रही है। शिवसेना (उद्धव गुट) प्रमुख उद्धव ठाकरे एवं राकांपा शरद पवार गुट के नेता जीतेंद्र आह्वाड के तीखे सुर सुनने को मिले, जिसके बाद अब नार्वेकर की भी जवाबी प्रतिक्रिया सामने आई है।

नार्वेकर ने किया पलटवार
नार्वेकर ने पलटवार करते हुए कहा कि शिवसेना (यूबीटी) अध्यक्ष उद्धव ठाकरे में साहस हो तो बताएं कि शिवसेना विधायकों से संबंधित अयोग्यता याचिका पर उनके फैसले में क्या गैरकानूनी था। वह बोले, ‘मेरे खिलाफ व्यक्तिगत टिप्पणी करने की बजाय, उद्धव जी और अव्हाड के अंदर यह साबित करने का साहस नहीं है कि (अयोग्यता याचिकाओं पर) मैंने जो निर्णय लिया है उसमें क्या गैरकानूनी है। संजय राउत के साथ साहस के बारे में कोई सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने कहा कि इस बात पर गर्व करने के बजाय कि राज्य के किसी व्यक्ति को राष्ट्रीय स्तर का काम पूरा करने को मिल रहा है, उद्धव ठाकरे आलोचना कर रहे हैं। नार्वेकर ने कहा, ‘ऐसा कृत्य केवल वही लोग कर सकते हैं जिनके मन में राज्य के प्रति कोई स्नेह या गौरव नहीं है।’ दरअसल, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने दलबदल विरोधी कानून की समीक्षा करने के लिए एक समिति के प्रमुख के रूप में राहुल नार्वेकर को चुना है। इसके बाद से ठाकरे ने नार्वेकर की आलोचना शुरू कर दी। ठाकरे ने पूछा था कि क्या यह कदम ‘देश में लोकतंत्र को खत्म करने की दिशा में अगला कदम’ है’। वहीं दूसरी ओर उनके बेटे और पूर्व राज्य मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी मजाकिया अंदाज से पूछा था कि क्या नार्वेकर को समिति का नेतृत्व करने का काम सौंपा गया था,  क्योंकि उन्हें पांच साल की अवधि में तीन दलों में शामिल होने का अनुभव है।
संजय राउत और अव्हाड ने भी नहीं छोड़ी कोई कसर
शिवसेना (यूबीटी) के राज्यसभा सांसद संजय राउत और शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के जितेंद्र अव्हाड ने भी नार्वेकर को ऐसी समिति का प्रमुख बनाने के कदम की आलोचना की थी।