#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

शान से निकली भगवान रघुनाथ की रथयात्रा, हजारों ने खींचा रथ, श्रीराम के जयघोष से गूंजा क्षेत्र

86

देवी-देवताओं का समागम अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव भगवान रघुनाथ की भव्य रथयात्रा के साथ मंगलवार को शुरू हो गया। कुल्लू में आई आपदा के साढ़े तीन माह बाद प्रदेश का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन शुरू हुआ। अपराह्न 4:31 बजे पालकी में सवार होकर रथ मैदान पहुंचे भगवान रघुनाथ की पूजा अर्चना और परिक्रमा के बाद माता भेखली का इशारा मिलते ही शाम करीब 5:21 बजे रथ मैदान ढालपुर से रघुनाथ की भव्य रथयात्रा जय श्रीराम व हर-हर महादेव के जयघोष के साथ शुरू हुई। सभी धर्मों के हजारों लोगों ने एक साथ रथ को खींचा। मान्यता है कि भगवान रघुनाथ का रथ खींचने से पापों से मुक्ति मिलती है। रथ पर सवार अधिष्ठाता भगवान रघुनाथ को देव परंपरा और कड़ी सुरक्षा के बीच उनके अस्थायी शिविर ढालपुर मैदान में लाया गया। जहां अगले सात दिन उनकी यहीं पूजा-अर्चना होगी। लोग यहां रघुनाथ के दर्शन करेंगे। हर दिन उनका शृंगार होगा। रथयात्रा के दौरान हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल बतौर मुख्यातिथि मौजूद रहे। रथ मैदान में कुल्लू जिले के करीब 100 देवी-देवता परंपरा निभाने पहुंचे। ढोल-नगाड़ों, नरसिंगों, शहनाई की स्वरलहरियों से पूरा वातावरण देवमय हुआ। इस भव्य नजारे को देश-विदेश से पहुंचे पर्यटकों ने भी देखा। इससे पहले भगवान रघुनाथ अपने देवालय सुल्तानपुर से करीब 3:00 बजे पालकी में सवार होकर रवाना हुए। रास्ते में लोगों ने उनका जगह-जगह फूलों के साथ स्वागत किया।
भगवान रघुनाथ के सम्मान में वर्ष 1660 से अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव मनाया जा रहा है। देवताओं के इस महाकुंभ में 332 देवी-देवताओं को निमंत्रण भेजा गया था। मेले के लिए आउटर सराज के 14 देवी-देवता 200 किमी दूर से कुल्लू पहुंचे हैं। इनमें देवता खुडीजल, ब्यास ऋषि, कोट पझारी, टकरासी नाग, चोतरू नाग, बिशलू नाग, देवता चंभू उर्टू, देवता चंभू रंदल, सप्तऋषि, देवता शरशाई नाग, देवता चंभू कशोली, कुई कांडा नाग, माता भुवनेश्वरी शामिल हैं।  वहीं, सुबह से ही ढालपुर में देवताओं के पहुंचने का सिलसिला जारी रहा। वहीं, बड़ी संख्या में देवता भगवान रघुनाथ के दरबार में हाजिरी लगाने के लिए पहुंचे। ढोल-नगाड़ों की मधुर ध्वनियों से पूरी घाटी गूंज उठी और देव धुनों से माहौल भक्तिमय हो गया है।  मंगलवार सुबह भी देवी-देवताओं के पहुंचने का सिलसिला जारी रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *