#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

शिंदे गुट के विधायक का दावा, शिवसेना के 18 में से 12 सांसद जल्द ही हमारे साथ होंगे

153

शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट के विधायक ने बुधवार को दावा किया कि शिवसेना के 18 में से 12 सांसद जल्द ही एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले गुट में शामिल हो जाएंगे। शिवसेना के एक सांसद ने एक दिन पहले ही एनडीए के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के समर्थन की घोषणा करने के लिए पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे से अनुरोध किया था। जलगांव जिले में अपने निर्वाचन क्षेत्र में पत्रकारों से बात करते हुए पिछली ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में मंत्री रहे गुलाबराव पाटिल ने कहा कि शिंदे गुट पार्टी की महिमा को बहाल करेगा। हमारे साथ 55 में से 40 विधायक हैं और 18 में से 12 सांसद हमारे साथ आ रहे हैं। तो पार्टी किसकी है? मैं व्यक्तिगत रूप से चार सांसदों से मिला हूं। हमारे साथ 22 पूर्व विधायक भी हैं। मंगलवार को शिवसेना के लोकसभा सदस्य राहुल शेवाले ने उद्धव ठाकरे से आग्रह किया था कि वह पार्टी के सांसदों से एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करने के लिए कहें। उद्धव ठाकरे के वफादार और एकनाथ शिंदे गुट दोनों ने दावा किया है कि उनका गुट ही मूल शिवसेना का प्रतिनिधित्व करता है। शिवसेना के 55 विधायकों में से 40 मुख्यमंत्री शिंदे के साथ हैं। पाटिल ने आगे कहा कि उन्होंने सत्ता के लिए पार्टी नहीं छोड़ी है, जब हम मंत्री थे तब भी सत्ता छोड़ दी। उन्होंने कहा कि एक नहीं, बल्कि आठ मंत्रियों ने पार्टी छोड़ी है। इसका मतलब है कि हम अपनी शिवसेना को बचाना चाहते हैं। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने बुधवार को राजन विचारे को सांसद भावना गवली की जगह लोकसभा में पार्टी का मुख्य सचेतक नामित किया। यह जानकारी शिवसेना नेता संजय राउत ने दी। राउत ने संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी को लिखे पत्र में कहा कि आपको सूचित किया जाता है कि शिवसेना संसदीय दल ने राजन विचारे, सांसद (लोकसभा) को भावना गवली, सांसद (लोकसभा) के स्थान पर लोकसभा में तत्काल प्रभाव से मुख्य सचेतक नामित किया है। राउत शिवसेना संसदीय दल के नेता हैं।
शिवसेना के बागी विधायक ने राज ठाकरे से की मुलाकात
इस बीच शिवसेना के बागी विधायक सदा सरवणकर ने बुधवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे से उनके आवास पर मुलाकात की। शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट के नेता सरवणकर ने कहा कि उनकी सर्जरी हुई है इसलिए मैंने उनसे शिष्टाचारवश मुलाकात की। हम पास में ही रहते हैं। सरवणकर मध्य मुंबई से विधायक हैं जहां राज ठाकरे रहते हैं। महाराष्ट्र विधानसभा में राज ठाकरे की पार्टी मनसे का एक ही विधायक है।विधायक जायसवाल ने बताई शिंदे खेमे में शामिल होने की वजह 
शिवसेना विधायक प्रदीप जायसवाल ने बुधवार को कहा कि उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के खेमे में शामिल होने का फैसला किया है ताकि उनके निर्वाचन क्षेत्र औरंगाबाद सेंट्रल के लिए विकास निधि प्राप्त की जा सके। जायसवाल राज्य में शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार के सत्ता में आने के बाद पहली बार औरंगाबाद लौटने पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा, औरंगाबाद शहर में तीन पुल हैं जो 300 साल से अधिक पुराने हैं। मैं उनकी मरम्मत के लिए धन की मांग कर रहा था, लेकिन मुझे आवंटित नहीं किया गया। मैंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए धन प्राप्त करने के लिए शिंदे के समूह में शामिल होने का फैसला किया। जायसवाल उन 40 विधायकों में से एक हैं जिन्होंने महाविकास अघाड़ी (एमवीए) के खिलाफ बगावत की और अपने नेता शिंदे के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए थे। जायसवाल ने आरोप लगाया कि 2009 से तत्कालीन मंत्री अजीत पवार ने मुझे पुराने पुलों पर काम के लिए 11.50 करोड़ रुपये देने का वादा किया था। जब वह हाल ही में औरंगाबाद में थे तो पवार ने मुझसे कहा कि वह पुलों के लिए धन आवंटित करेंगे, लेकिन राज्य बजट में कहीं नजर नहीं आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *