#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

200-200 के जत्थे में श्रद्धालुओं को कराए जा रहे दर्शन, राम जन्मभूमि पथ के सभी रास्ते बंद किए गए

64

अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दूसरे दिन बुधवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु रामलला के दर्शन के लिए पहुंचे हैं। प्राण प्रतिष्ठा के बाद पहले दिन मंगलवार को रामलला के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का सैलाब देखने को मिला। इस दौरान पूरी व्यवस्था चरमराती नजर आई जिसके बाद खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भीड़ मैनेजमेंट के लिए उतरना पड़ा। आज बुधवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचे हैं। हालांकि आज प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद नजर आ रहा है। सिर्फ 200-200 के जत्थे में श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए भेजा जा रहा है। इतना ही नहीं राम जन्मभूमि पथ पर जाने वाले सभी अन्य मार्गों को पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है। बैरियर गिराकर सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है। राम भक्त केवल राम जन्मभूमि पथ के मुख्य द्वार से ही प्रवेश कर पा रहे हैं। बैरियर पर तैनात सुरक्षा बलों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि किसी को भी अन्य मार्ग से प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अमावां मंदिर हनुमानगढ़ी से आने वाले मार्गों पर पूर्ण रूप से बेरिकेडिंग किया गया है। गौरतलब है कि मंगलवार को 4 लाख राम भक्तों ने रामलला का दर्शन किया था। रामलला के भक्तों का जनसैलाब को देखते हुए आज नए सिरे से रूपरेखा बनाई गई है। जन्मभूमि जाने वाले रामकोट के सभी बैरियर बंद किए गए हैं। स्थानीय लोगों को आधार कार्ड देखकर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।