#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

आतंक, गृहयुद्ध और हिंसा में घिरेगा अफगानिस्तान, तालिबान के अलावा ये संगठन भी हैं वर्चस्व की जंग में शामिल

535

अफगानिस्तान से अमेरिका समर्थित सरकार को अपदस्थ कर भले ही तालिबान ने कब्जा जमा लिया है, लेकिन यह देश में उपद्रव का अंत नहीं है। इससे उलट अब अस्थिरता, अशांति और गृह युद्ध जैसे हालातों में इजाफा हो गया है। काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट-खुरासान की ओर से किए गए धमाकों ने यह साफ कर दिया है। इन धमाकों में 95 लोगों की मौत हुई है, जिनमें 13 अमेरिकी सैनिक भी शामिल हैं। 31 अगस्त को अमेरिका और नाटो देशों के सैनिकों की वापसी का आखिरी दिन है। ऐसे में आने वाले दिनों में हालात और बिगड़ सकते हैं। आइए जानते हैं, अफगानिस्तान में बिगड़े हालातों के लिए कौन से संगठन हो सकते हैं जिम्मेदार…

तालिबान की स्थापना मुल्ला मोहम्मद उमर ने 1994 में की थी। इसमें उन्होंने 1980 के दशक में सोवियत से लड़ने वाले मुजाहिदीनों या फाइटर्स को शामिल किया था। तालिबान ने इसके बाद 1996 से 2001 तक अफगानिस्तान में अपना कुख्यात शासन भी चलाया था। इस दौरान लोगों पर भीषण अत्याचार होते थे और महिलाओं पर खासी पाबंदियां लागू थीं। लेकिन अमेरिका में हुए आतंकवादी हमले के बाद 2001 में वह सत्ता से बेदखल हो गया था। कुछ वक्त अमेरिका के हाथों में देश रहने के बाद उसके समर्थन वाली सरकारें ही रहीं और अब तालिबान फिर से हिंसा के दम पर सत्ता पर काबिज हो गया है।

नॉर्दर्न अलायंस भी तालिबान को शांति से नहीं बैठने देगा

तालिबान ने भले ही अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया है, लेकिन अब भी पंजशीर घाटी से वह दूर है। यहां नॉर्दर्न अलायंस काबिज है, इसने ही 1996 से 2001 के दौरान भी तालिबान से मोर्चा लिया था। यहां मुख्य तौर पर उज्बेक और ताजिक मूल के लोगों की आबादी है। इसका नेतृत्व फिलहाल अहमद मसूद के हाथों में है। इसके अलावा देश के पहले उपराष्ट्रपति रहे अमरुल्लाह सालेह का भी इसे समर्थन प्राप्त है।

ISIS-K भी बना है तालिबान का कट्टर दुश्मन

काबुल एयरपोर्ट पर हुए भीषण हमले की जिम्मेदारी लेने वाला खूंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट खुरासान भी अफगानिस्तान में अशांति की बड़ी वजह बन सकता है। यह संगठन भी तालिबान की तरह ही कट्टर सुन्नी इस्लामिक है, लेकिन कई मुद्दों पर इसके मतभेद हैं। यह आतंकी संगठन आईएस के सरगना रहे अबू बकर अल-बगदादी को अपना नेता मानता रहा है, जिसने बीते सालों में कई खूंखार हमले कराए थे और अमेरिकी कार्रवाई में मारा गया था। अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी को लेकर अमेरिका और तालिबान के बीच हुई डील का भी यह विरोध करता रहा है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसके लड़ाकों की संख्या 500 से 10,000 के करीब है।

अलकायदा के फिर खूंखार होने का है खतरा

भले ही तालिबान ने अपने राज में आतंकी संगठनों को न उभरने देने और अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी और देश के खिलाफ न होने देने की बात कही है, लेकिन ऐसा होता नहीं दिखता। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान के हक्कानी ग्रुप का अलकायदा से करीबी रिश्ता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *