#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

‘एकतरफा और दुर्भाग्यपूर्ण है आंबेडकर का फैसला’, गठबंधन टूटते ही संजय राउत बोले- एक बार फिर सोचें

67

लोकसभा चुनाव से पहले महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मचती दिख रही है। एक दिन पहले वंचित बहुजन अघाड़ी प्रमुख प्रकाश आंबेडकर कह चुके हैं कि उद्धव शिवसेना के साथ गठबंधन अब अस्तित्व में नहीं है। अब उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना के नेता संजय राउत ने इस निर्णय को एकतरफा और दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। इसके साथ ही राउत ने कहा है कि आंबेडकर को इस बारे में पुनर्विचार करना चाहिए। संजय राउत ने कहा कि एक साल से अधिक समय बीत चुका है, जब उद्धव ठाकरे और प्रकाश आंबेडकर ने गठबंधन का एलान किया था। यह गठबंधन अच्छे इरादों के साथ किया गया था।  राउत ने कहा कि आंबेडकर को ऐसी घोषणा करने से पहले उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा करनी चाहिए थी। प्रकाश आंबेडकर को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। इस बार लोकसभा चुनाव के लिए प्रकाश आंबेडकर की पार्टी वंचित बहुजन अघाड़ी ने महा विकास अघाड़ी के तीन सहयोगियों- शिवसेना (उद्धव बाल ठाकरे), कांग्रेस और एनसीपी (शरद चंद्र पवार) के साथ हाथ मिलाने पर विचार किया। यहां पेंच यह फंसा सीट बंटवारे को लेकर बातचीत से कोई निर्णय नहीं निकला। प्रकाश आंबेडकर ने कहा कि वह 26 मार्च को अपने अगले कदम का एलान करेंगे। इस दौरान उन्होंने वंचित बहुजन अघाड़ी और महा विकास अघाड़ी के बीच बातचीत को लेकर सीधा जवाब नहीं दिया। आंबेडकर ने यह भी दावा किया कि महाविकास अघाड़ी के सहयोगियों में आंतरिक कलह खत्म नहीं हो रही है। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें कभी भी चार सीटों का प्रस्ताव नहीं दिया गया। कुछ दिन पहले ही शिवसेना (उद्धव ठाकरे) और राकांपा (शरद पंवार) के रवैये को लेकर भी नाराजगी जताई थी। इस दौरान उन्होंने महाराष्ट्र में सात लोकसभा सीटों पर कांग्रेस को समर्थन देने की बात भी कही थी।
महाविकास अघाड़ी में सीटों का बंटवारा
महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी गठबंधन द्वारा 48 लोकसभा सीटों में से 44 सीटों पर सीट बंटवारे का समीकरण तय किया जा चुका है। महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से सबसे ज्यादा शिवसेना (उद्धव ठाकरे) के खाते में 19 सीटें हैं। इसके अलावा कांग्रेस के खाते में 16 सीटें, राकांपा (शरद पंवार) को 9 सीटें मिली हैं। इसके अलावा सांगली, भिवंडी, मुंबई उत्तर पश्चिम और मुंबई दक्षिण मध्य चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस और शिवसेना (उद्धव ठाकरे) के बीच खींचतान चल रही है महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों पर पांच चरणों में 19 अप्रैल, 26 अप्रैल, 7 मई, 13 मई और 20 मई को चुनाव होंगे और वोटों की गिनती 4 जून को होगी।