#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

‘कॉमेडी करना मेरे खून में है!’ -भारती सिंह

529

अपने देश में महिला कॉमेडियन की संख्या बहुत ज्यादा नहीं है। लेकिन जितनी भी हैं उनमें छोटे पर्दे पर भारती सिंह क्वीन है, इसमें कोई दो राय नहीं। कलर्स चैनल पर भारती अपने पति हर्ष लिंबाचिया के साथ शो ‘खतरा खतरा’ के साथ ही ‘हुनरबाज’ होस्ट कर रही हैं। थोड़े दिनों पहले भारती मां बनी हैं। मां बनने के बावजूद जब वे सेट पर उपस्थित होती हैं, अपने काम को सही तरीके से अंजाम देती हैं। पेश है, भारती सिंह से पूजा सामंत की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

मां बनने के बाद सेट पर जल्द ही लौट आने की क्या वजह रही?

मेरी प्रेग्नेंसी के दौरान ही मेरे शोज ऑन एअर जा चुके थे। टीवी, नाटक, फिल्म का काम लगातार चलता रहता है इसीलिए ये कहावत है कि शो मस्ट गो ऑन! डिलिवरी के पश्चात काफी समय तक मैं घर पर ही रही लेकिन हर्ष और अपने बेटे के साथ मैं सेट पर जाने लगी। ब्रेक टाइम के दौरान मैं अपने बेटे का ध्यान रख सकती हूं।

इतने छोटे बच्चे को अपने साथ ले जाना आसान तो नहीं है?

चैलेंजेस तो हैं लेकिन अन्य कामकाजी महिलाओं की तुलना मेरे चैलेंजेस कुछ भी नहीं। चैनल और शो से जुड़े लोगों के साथ मेरी बहुत अच्छी अंडरस्टैंडिंग है। इस शो के कारण मेरे पति हर्ष मेरे साथ ही होते हैं। बच्चे की जिम्मेदारी हम दोनों की है और हर्ष अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे हैं। मैं उन तमाम महिलाओं को सैल्यूट करती हूं, जो अपने नन्हे-मुन्नों को घर छोड़कर दफ्तर जाती हैं। जब कभी बच्चे को घर छोड़कर आती हूं, तब कैमरे के जरिए वो मुझे चौबीस घंटे दिखता रहता है। मैं दोनों तरीके से काम कर रही हूं।

क्या इस डबल ड्यूटी से आपको तनाव महसूस होता है?

अपने काम के प्रति मैं कमिटेड हूं। जो लोग प्रोफेशनल होते हैं, वे काम को भगवान मानते हैं। मैं मां हूं लेकिन अपने काम को भी तवज्जो देती हूं। घर पर बच्चे के नाना-नानी भी हैं और जब बच्चा घर पर होता है, वे उसका पूरा ध्यान रखते हैं। एक मां को और क्या चाहिए?

क्या आपको नेगेटिव कमेंट्स सुनने को मिले हैं?

अच्छा काम करो तो मुसीबत, गलती से बुरा काम हुआ तब भी लोग बोलेंगे। लोग कहते हैं कि इतनी भी पैसों की क्या जरूरत है, जो मैं शूटिंग करने के लिए इतने समझौते कर रही हूं? लेकिन भलाई इसी में है कि लोगों की पॉजिटिव बातें सुनें और नेगेटिव बातों को नजरअंदाज करें। आपने सड़क पर कितनी ही गर्भवती महिलाओं को सामान बेचते हुए देखा होगा। इन महिलाओं की कितनी ही मजबूरियां होती हैं। क्या इन गरीब महिलाओं को कोई यह कह सकता है, अभी-अभी जन्मे बच्चे को अपनी पीठ पर बांधे वे सड़कों पर क्यों घूमती हैं?

प्रेग्नेंसी के दौरान मूड्स काफी स्विंग्स होते हैं, आपने इस प्रेशर को कैसे हैंडल किया?

मेरे मूड्स को हर्ष ने बखूबी संभाला। प्रेग्नेसी की खुशखबरी हमने ४ महीनों तक किसी को भी नहीं बताई। हर्ष मेरे लिए कभी मां बने, तो कभी दोस्त, तो कभी सहेली। मेरे सारे नखरे उन्होंने उठाएं। मैं हर्ष की शुक्रगुजार हूं।

मां बनने के बाद आप खुद में क्या बदलाव महसूस करती हैं?

यह जनरेशन २४ घंटे सोशल मीडिया पर लगी रहती है, यह कहना गलत नहीं होगा। लेकिन मां बनने के बाद मेरा ज्यादातर समय अपने बेटे की परवरिश में चला जाता है और मैं सोशल मीडिया पर अब एक्टिव नहीं रहती। एक मां को सोते-जागते अपने बच्चे के सिवा कुछ और नजर नहीं आता।

कॉमेडी करने को आप कितना एन्जॉय करती हैं?

कॉमेडी करना शायद मेरे खून में है। मैं इसे शुरू से एन्जॉय करती आई हूं। अधिकतर पंच मैं स्पॉन्टेनियसली मारती हूं। मेरे पंच मुझे तरो-ताजगी से भर देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *