#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

ड्रैगन का डेंजर! फर्जी लोन ऐप से चुराया लाखों भारतीयों का डाटा

272

मुंबई
ऐप के जरिए झटपट लोन देने के बाद ठगी और ब्लैकमेलिंग किए जाने के मामलों की जांच कर रही मुंबई पुलिस ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। फर्जी लोन एप्लिकेशन के माध्यम से चीन के सायबर ठग हिंदुस्थानियों से न सिर्फ करोड़ों रुपए की ठगी कर चुके हैं बल्कि लाखों हिंदुस्थानियों का डाटा भी चुरा लिए हैं। जांच एजेंसियों को शक है कि भविष्य में चुराए गए इन डाटा का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है। देशविरोधी गतिविधियों में भी इनका उपयोग किया जा सकता है। फेक लोन ऐप में गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ और खंगाले गए डाटा में जांच एजेंसियों को तकरीबन ढाई लाख से ज्यादा लोगों के मोबाइल नंबर, आधार, पैन, बैंिंकग ट्रांजेक्शन, कोड तक हैक कर उन डाटा को चीन और हॉन्गकॉन्‍ग के किसी सर्वर बैंक में छुपाकर रखने की जानकारी मिली है।
सर्वर बैंक में स्टोर किया डाटा
ढाई लाख लोगों की निजी जानकारियों की चोरी की शुरुआती जांच के दौरान यह बात उभरकर सामने आई है, जिसे अलग-अलग रूट्स एक-एक फाइल के रूप में स्टोर करते हुए चाइनीज ठगों तक पहुंचाया गया और फिर वो डाटा एक ऐसे सर्वर बैंक में स्टोर किया गया है, जिसका इस्तेमाल कभी चाइनीज हैकर्स वापस करते हुए आपके एकाउंट पर हाथ साफ कर सकते हैं। प्रॉक्सी वॉर के लिए भी इन डाटा का इस्तेमाल दोनों देशों का संबंध बिगड़ने पर कर सकते हैं। वहीं अर्थव्यवस्था तोड़ने के लिए भी फाइनेंशियल अटैक के लिए इन डाटा का इस्तेमाल किया जा सकता है।
ठगी से ऐसे बचें
इस बारे में मुंबई साइबर सेल के डीसीपी हेमराज सिंह राजपूत ने बताया कि पुलिस ने मई महीने तक १०५ सस्पेक्टेड ऐप आइडेंटिफाई किए हैं और तब से अब तक २५५ ऐप टेक डाउन किए हैं। लेकिन कई सस्पेक्टेड ऐप्स अभी भी नाम बदलकर उसी कंफिगरेशन के साथ उसी प्लेटफॉर्म पर एक्टिव हुए हैं। ऐसे में हमने मुहिम शुरू की, जिसे पुलिस मॉनिटरिंग कर रही है। डीसीपी राजपूत का कहना है कि जब भी कोई लिंक या ऐप डाउनलोड करते हैं तो वो हमारे फोन, कैमरा, डाटा, सबको वो एक्सेस देते हैं और सायबर ठग इसी का फायदा उठाते हैं। एहतियात बरतना ही इससे बचने का एकमात्र जरिया है। लोन एप्लिकेशन ऐप के इस्तेमाल से बचें। उन्‍हें तुरंत डिलीट कर देना चाहिए और जितने भी एप्लिकेशन हैं, खासकर ऑनलाइन पेमेंट एप्लिकेशन उनका पासवर्ड बदलें। कोई भी एप्लिकेशन को जब हम डाउनलोड करते हैं तो उसमें तीन चीज पूछी जाती है don’t allow, allow while using app और always  उसमें से हमें सेटिंग में जाकर allow while using app कर देना है, ताकि उसका एक्सेस कोई और न ले सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *