#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

तीसरी बार भी जीनोम सिक्वेंसिंग में डेल्टा और डेल्टा डेरिवेटिव मिला, 117 सैंपल में वैरिएंट काफी सौम्य

597

मुंबई
कस्तूरबा अस्पताल में अब तीन बार जीनोम सिक्वेंसिंग की गई। पहले दो जीनोम सिक्वेंसिंग में एक भी डेल्टा प्लस के मामले नहीं मिले, लेकिन डेल्टा वैरियंट के मामले जरूर मिले। इस बार 117 सैंपल में डेल्टा डेरिवेटिव वैरिएंट पाया गया। बीएमसी की कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मंगला गोमारे ने बताया कि कोरोना के डेल्टा प्लस के वैरिएंट में कई रूप देखने को मिले हैं। इसलिए डेल्टा प्लस को डेल्टा डेरिवेटिव नाम दिया गया है। जिन 117 सैंपल में यह वैरिएंट मिले हैं, वह काफी सौम्य थे। इसके फैलने की गति भी कम है।

डॉ. गोमारे के मुताबिक डेल्टा वैरिएंट की तुलना में डेल्टा डेरिवेटिव वैरिएंट की तीव्रता काफी कम है। इसलिए इससे चिंतित होने की जरूरत नहीं है, लेकिन एहतियात जरूरी है। इससे बचने के लिए मास्क, सेनिटाइजेशन और भीड़ न करने और सोशल डिस्टेंसिंग के प्रोटोकॉल का पालन करना बेहद जरूरी है। शेष बचे 41 सैंपल में कोविड के अन्य वेरिएंट मिले हैं।

121 लोगों ने नहीं ली थी वैक्सीन
अतिरिक्त मनपा आयुक्त सुरेश काकानी ने बताया कि इस जीनोम सिक्वेंसिंग में एक विशेष बात जरूर सामने आई है। जीनोम सिक्वेंसिंग में 121 लोग ऐसे थे, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं ली थी। इसमें से 57 लोगों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी, जिसमें से एक को ऑक्सिजन और एक को आईसीयू की जरूरत पड़ी, जबकि तीन लोगों की मौत हो गई। मरने वाले तीनों बुजुर्ग और को-मॉर्बिड थे, जिसमें से दो डेल्टा डेरिवेटिव से और एक डेल्टा वायरस से संक्रमित थे।

ऑक्सिजन की जरूरत नहीं पड़ी
जीनोम सिक्वेंसिंग के सैंपल में वैक्सीन की पहली खुराक लिए 54 लोग भी शामिल थे, जिन्हें कोरोना तो हुआ, लेकिन इसमें से सिर्फ 7 को ही अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था। अच्छी बात यह है कि इनमें से किसी को भी ऑक्सिजन और आईसीयू की जरूरत नहीं पड़ी। इसे देखते हुए बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त सुरेश काकानी ने मुंबईकरों से अपील की है कि वे कोरोना का टीका लगाने में जरा भी हिचकिचाहट न करें।

जीनोम सिक्वेंसिंग में शामिल वर्ग

आयु वर्ग संख्या

21 से 40 – 126

41 से 60 – 98

61 से 80 – 63

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *