#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

पावरलूम चलने चाहिए लेकिन मजदूर के हित को दरकिनार कर नही

583

भिवंडी – पावरलूम कारखाने को चालू करने के लिए सशर्त मिली अनुमति पावरलूम मालिक भले खुश है और नेता अपनी पीठ थपथपा रहे है लेकिन इस कोरोना वायरस जैसी महामारी के दौरान मजदूर के हित को उनकी सुरक्षा और स्वास्थ्य को नजरअंदाज करना खतरनाक साबित हो सकता है, क्योंकि भिवंडी के अधिकांश पावरलूम कारखाने नियम और कानून को ताक पर रखकर चलाए जा रहे है प्राथमिक उपचार किट से लेकर शौचालय और स्वच्छ पीने के पानी की व्यवस्था तक नही है, कारखाने के आसपास गंदगी का अंबार लगा रहता है ऐसी स्थिति मे मजदूर और उनका स्वस्थ रहने की बात करना बेमानी होगी, ऐसे कैसे कोरोना से मुकाबला करेगे पावरलूम मालिक, अधिकांश मजदूर होटल और बिस्सी मे खाना खाते है लाकडाऊन के कारण सब बंद है, इनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी बनी रहे क्या इस तरह के प्रोटीनयुक्त भोजन की व्यवस्था पावरलूम कारखाना मालिक करेगे , लाकडाऊन के दौरान मजदूर लाचार, असहाय महसूस कर रहे थे अधिकांश कारखाना मालिक ने मोबाइल उठाना और कारखाने मे आना बंद कर दिया था मजदूर कम्युनिटी किचन और समाजसेवी द्वारा दिए गए भोजन पर निर्भर हो गये थे जबकि अधिकांश मजदूर की पगार सेठ के पास बाकी है हिसाब बाकी है फिर भी सेठो ने मजदूर से दूरी बना ली थी और मजबूरन मजदूर ट्रक, टैम्पो और पैदल गांव चले गए, कारखाना चालू करने से पहले मजदूरो मे सेठो को विश्वास पैदा करना होगा उन्हे यकीन दिलाना होगा कि भविष्य मे इस तरह के हालात बनने पर आपको रहने खाने की व्यवस्था के साथ साथ गांव भेजने की भी व्यवस्था भी हम करेंगे / राज्य सरकार को पावरलूम कारखाने चालू करने की अनुमति देने के साथ-साथ पावरलूम मजदूर के हित का ख्याल रखते हुए एक दिशा-निर्देश जारी करे, हैरानी वाली बात यह है कि लाकडाऊन मे मजदूरो की दुर्दशा देखने के बावजूद मजदूर संगठन खामोश है /सबसे मार्मिक बात तो यह है कि कठीन परिस्थिति मे गाव जाने वाले कुछ मजदूर के पैर के छाले अभी ठीक नही हुए होगे कुछ की थकान अभी मिटी नही होगी और कुछ अभी रास्ते मे ही होगे, फिर भी उनसे काम पर वापस आने की उम्मीद की जा रही है और उनके हित को दरकिनार कर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *