#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

बीएमसी ने खोला खजाना, शिक्षा के लिए 3370 करोड़ का बजट, डिजिटल क्लास से लेकर स्कूल किट तक, जानिए क्या-क्या मिला

685

मुंबई: बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने इस बार शिक्षा के लिए भी अच्छा खासा बजट पेश किया है। इस बार मनपा ने शिक्षा का बजट 3370.24 करोड रुपए रखा है जो पिछले साल के मुकाबले 424 करोड़ ज्यादा है। गत वर्ष बीएमसी ने 2945.78 करोड़ रुपए का एजुकेशन बजट रखा था। बीएमसी एजुकेशन विभाग की चेयरमैन संध्या जोशी ने यह बजट पेश किया। बीएमसी द्वारा जिन स्कूलों को वित्तीय सहायता दी जाती है। उन स्कूलों में शिक्षकों को सैलरी देने के लिए इस बजट में 325 करोड़ और पेंशन देने के लिए 89. 32 खर्च किए जाएंगे।

ढाई लाख छात्रों को मुफ्त शिक्षा

बीएमसी इस बार तकरीबन दो लाख 42 हजार प्राइमरी स्कूल के छात्रों को मुफ्त में शिक्षा मुहैया करवाएगी। जबकि जबकि 48 हजार सेकेंडरी कक्षा के छात्र भी मुफ्त शिक्षा ग्रहण करेंगे। बीएमसी शिक्षा विभाग में 900 बालवाड़ी स्कूलों को भी मंजूरी दी है। पहली से आठवीं कक्षा में ऑनलाइन शिक्षा के लिए बीएमसी 19 लाख रुपए खर्च करेगी। वहीं डिजिटल क्लासरूम के लिए कुल 28 करोड़ रुपए खर्च करने का प्रावधान है।

बच्चों की सेहत से समझौता नहीं
स्कूल के बच्चों को कोरोना और अन्य बीमारियों से बचाने के लिए स्वास्थ्य हेल्थ केयर उपकरणों के वितरण हेतु बीएमसी ने प्राइमरी के लिए 80 करोड़ और सेकेंडरी के छात्रों के लिए 20 करोड़ खर्च करने का प्रावधान किया है। जिसमें बीएमसी के बच्चों को मुफ्त में यूनिफार्म,कॉपी, किताबें, जूते, मोजे, स्टेशनरी,चप्पल, स्कूल किट जैसी तमाम चीजें उपलब्ध करवाई जाती हैं।

कंप्यूटर लैब के भी निधि
कंप्यूटर लैब की सुविधा बढ़ाने और छात्रों को तकनीकी ज्ञान देने के लिए बीएमसी ने इस बार प्राइमरी के लिए 10 करोड़ और सेकंडरी के लिए एक करोड़ 20 लाख रुपए के बजट का प्रावधान किया है। स्कूल मैनेजमेंट इनफॉरमेशन सिस्टम के लिए इस शिक्षा बजट में 57 करोड़ का प्रावधान किया गया है। स्कूलों में साफ सफाई और सुरक्षा शुल्क सिक्योरिटी के लिए 75 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

बीएमसी द्वारा दी जा रही शिक्षा सुविधाएं
1) बीएमसी 6831 शिक्षकों की मदद से दो लाख 42 हजार 899 छात्रों को हिंदी, मराठी, गुजराती, उर्दू, इंग्लिश, तेलगु, तमिल, और कन्नड़ भाषा में शिक्षा दे रही है। बीएमसी के शहर भर में 964 प्राइमरी स्कूल हैं। जबकि 243 सेकेंडरी स्कूलों में 1383 शक्षकों के जरिये 48 हज़ार 209 छात्रों को एजुकेशन दी जा रही है।

3) बीएमसी दो डीएड कॉलेज भी चलाती है जिसमें 153 स्टूडेंट को शिक्षा दी जाती है।

4) बीएसमी 394 निजी स्कूलों को वित्तीय सहायता देती है। जिसमें 2 हजार 836 टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ काम करता है। जबकि पहली से लेकर चौथी कक्षा के 98 हज़ार, 719 स्टूडेंट्स को शिक्षा मिलती है।

5) बीएमसी शिक्षा विभाग ने 900 बालवाड़ी को मंजूरी दी है। जिसमें से 815 बालवाड़ी शुरू हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *