#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

‘विधायक सामने आकर इस्तीफा मांगें, पद छोड़ने के लिए तैयार’, बागी नेताओं को सीएम उद्धव का संदेश

330
महाराष्ट्र में शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद महाविकास अघाड़ी गठबंधन संकट में आ गया है। विधायकों के ताजा आंकड़ों पर नजर डाली जाए और शिंदे के 40 से ज्यादा विधायकों के समर्थन वाले बयान पर भरोसा किया जाए तो शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार अब अल्पमत में आ चुकी है। इस बीच उद्धव ने बुधवार को ही फेसबुक लाइव के जरिए जनता से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने एकनाथ शिंदे के उस आरोप का जवाब दिया, जिसमें शिवेसना नेता ने कहा था कि पार्टी हिंदुत्व के रास्ते से दूर हो रही है। ठाकरे ने साफ शब्दों में कहा कि हमने हिंदुत्व के लिए क्या-क्या किया है, यह भी बताने का यह समय नहीं है। हिंदुत्व के संबंध में विधानसभा में बोलने वाला मैं पहला मुख्यमंत्री हूं। फेसबुक लाइव के दौरान उद्धव ने कहा कि अगर आप शिवसेना बोलोगे तो शिवसेना और हिंदुत्व आपस में मिले हुए हैं। शिवसेना हिंदुत्व और हिंदुत्व शिवसेना से अलग नहीं हो सकते। हिंदुत्व हमारी सांस है और यह बात बाबासाहब ने कही थी। कुछ लोग कह रहे हैं कि यह बालासाहेब की शिवसेना नहीं है। मैंने ऐसा क्या किया, जो यह सवाल उठ रहे हैं। 2012 में बालासाहेब का निधन हुआ। 2014 में हम अकेले चुनाव लड़े। तब भी हमने जो चुनाव लड़ा था, उस समय 63 विधायक जीतकर आए। ‘मेरे लोग ही मुझसे इस्तीफा चाह रहे, कोई मोह मुझे रोक नहीं सकता’
उद्धव ने कहा, “अगर मैं अपने ही लोगों को मुख्यमंत्री के तौर पर नहीं चाहिए, तो मैं क्या करूं? मुझे नहीं पता कि वे लोग मुझे अपना मानते ही कि नहीं। उन्हें मेरे सामने आकर कहना चाहिए था कि आप मुख्यमंत्री पद नहीं संभाल सकते। आपको मुख्यमंत्री पद छोड़ना चाहिए। एक भी व्यक्ति सामने आकर कहता है कि मुख्यमंत्री पद से हट जाओ तो मैं हट जाऊंगा। मैं शिवसेना प्रमुख का बेटा हूं, किसी भी तरह का मोह मुझे रोक नहीं सकता। मेरा इस्तीफा तैयार है। ‘विधायक सिर्फ मुझे फोन कर दें, मैं इस्तीफा देने को तैयार’
शिवसेना प्रमुख ने कहा, “जो विधायक गायब हैं, या जिन्हें गायब किया गया है वे आएं और मेरा इस्तीफा लेकर जाएं। अगर कोश्यारी बोलेंगे तो मैं वहां भी जाने को तैयार हूं। कोई मजबूरी नहीं है। कोई लाचारी नहीं है। मैं चुनौतियों का सामना करने को तैयार हूं। मुख्यमंत्री पद के लिए जो मैं बोल रहा हूं, वह शिवसैनिकों के लिए भी बोल रहा हूं। जिन लोगों को लग रहा है कि मैं शिवसेना प्रमुख के लायक नहीं हूं, तो मैं यह कुर्सी भी छोड़ दूंगा। मैं दोनों पद छोड़ने को तैयार हूं।  शिवसेना का कोई और नेता मुख्यमंत्री बनता है तो वह भी अच्छा लगेगा। आप मुझे वहां से फोन करिए और बोलिए कि आप मुझे नहीं चाहिए। मैं इस क्षण को मुख्यमंत्री पद छोड़ने को तैयार हूं। पद आते हैं, जाते रहते हैं। जीवनभर की कमाई होती है, जो आप कुर्सी पर रहकर करते हैं। जनता का साथ मिला है, वह ही असली कमाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *