#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

संजय राउत बोले- महाराष्ट्र के राज्यपाल को अपने कामों से ‘सकारात्मक’ मंशा दिखानी चाहिए

654

मुंबई, शिवसेना सांसद संजय राउत ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि विधान परिषद के सदस्य के तौर पर 12 नामों को मंजूरी देने के महाराष्ट्र के मंत्रिमंडल के अनुरोध को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाले प्रतिनिधिमंडल और राज्यपाल बी एस कोश्यारी के बीच चर्चा अच्छी रही। साथ ही उन्होंने कहा कि कोश्यारी को अपने कार्यों के जरिए ‘सकारात्मक’ इरादे दिखाने चाहिए। ठाकरे और वरिष्ठ मंत्रियों ने बुधवार को यहां राज भवन में कोश्यारी से मुलाकात की और उनसे राज्यपाल के कोटे से विधान परिषद के सदस्यों के तौर पर नामांकित किए जाने के लिए पिछले साल राज्य मंत्रिमंडल द्वारा भेजे 12 नामों को बिना किसी देरी के मंजूरी देने का अनुरोध किया।

राउत ने यहां पत्रकारों को बताया, ‘हम उम्मीद करते हैं कि राज्यपाल विधान परिषद में नामांकन के लिए 12 नामों को जल्द ही मंजूरी देंगे जिनकी सिफारिश मंत्रिमंडल ने की है। उन्होंने कहा कि वह इसे लेकर सकारात्मक हैं। उन्हें अपने कामों से यह दिखाना चाहिए।’

शिवसेना नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री अजित पवार और राज्य के राजस्व मंत्री बालासाहेब थारोट बुधवार को ‘सकारात्मक ऊर्जा’ के साथ राज भवन से लौटे।

राउत ने कहा, ‘मैंने बैठक के दृश्य देखे। हर कोई खुश था। महाराष्ट्र में राज भवन और सरकार के बीच सत्ता संघर्ष की परंपरा नहीं रही है। दोनों के बीच संबंध हमेशा मैत्रीपूर्ण रहे हैं।’

उन्होंने बताया कि जिन 12 लोगों के नाम भेजे गए हैं वे राज्य के सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं। राज्यसभा सदस्य ने पूछा, ‘आप उन्हें उनके अधिकारों से कैसे वंचित कर सकते हैं? क्या आप पर दबाव है?’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *