#BREAKING LIVE :
मुंबई हिट-एंड-रन का आरोपी दोस्त के मोबाइल लोकेशन से पकड़ाया:एक्सीडेंट के बाद गर्लफ्रेंड के घर गया था; वहां से मां-बहनों ने रिजॉर्ट में छिपाया | गोवा के मनोहर पर्रिकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरी पहली फ्लाइट, परंपरागत रूप से हुआ स्वागत | ‘भेड़िया’ फिल्म एक हॉरर कॉमेडी फिल्म | शरद पवार ने महाराष्ट्र के गवर्नर पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने पार कर दी हर हद | जन आरोग्यम फाऊंडेशन द्वारा पत्रकारो के सम्मान का कार्यक्रम प्रशंसनीय : रामदास आठवले | अनुराधा और जुबेर अंजलि अरोड़ा के समन्वय के तहत जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शन करते हैं | सतयुगी संस्कार अपनाने से बनेगा स्वर्णिम संसार : बीके शिवानी दीदी | ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रम में आरती त्रिपाठी हुईं सम्मानित | पत्रकार को सम्मानित करने वाला गुजरात गौरव पुरस्कार दिनेश हॉल में आयोजित किया गया | *रजोरा एंटरटेनमेंट के साथ ईद मनाएं क्योंकि वे अजमेर की गली गाने के साथ मनोरंजन में अपनी शुरुआत करते हैं, जिसमें सारा खान और मृणाल जैन हैं |

RT-PCR में निगेटिव होने के बाद भी हो सकते हैं कोरोना पॉजिटिव, गुजरात में सामने आ रहे ऐसे कई केस

580

कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस बीच गुजरात में कुछ चौकाने वाले मामले लगातार सामने आ रहे हैं। रैपिड एंटीजन परीक्षण (आरएटी) और फिर आरटी-पीसीआर में निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद भी कोरोना पॉजिटिव होने की संभावना बरकरार रहती है। आपको बता दें कि टेस्ट के इस तरीके को बेहतर माना जाता है।
गुजरात भर में डॉक्टरों के सामने ऐसे कई मामले आए हैं, जिसमें मरीज आरटी-पीसीआर टेस्ट में निगेटिव आता है, लेकिन उच्च-रिज़ॉल्यूशन सीटी (एचआरसीटी) में फेफड़ों में संक्रमण पाया जाता है।
समस्या इतनी विकट हो गई है कि वडोदरा नगर निगम (VMC) ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा है कि यह जरूरी नहीं है कि कोरोना का मौजूदा स्ट्रेन आरटी-पीसीआर टेस्ट में पॉजिटिव दिखे। इसलिए बीमा कंपनियों और तीसरे पक्ष के प्रशासकों (टीपीए) को इसे कोविड पॉजिटिव मानना चाहिए। महामारी विज्ञान रोग अधिनियम के तहत जारी वीएमसी के आदेश में कहा गया है, “ऐसे मामलों में जहां आरटी-पीसीआर निगेटिव है, लेकिन एचआरसीटी और प्रयोगशाला जांच में वायरल की पुष्टि होती है तो इसे कोरोना के रूप में माना जाना चाहिए।”
वडोदरा के निजी अस्पतालों के एक संगठन SETU के अध्यक्ष डॉ. कृतेश शाह ने कहा, “मैंने ऐसे कई रोगियों को देखा है जो आरटी-पीसीआर में निगेटिव आए हैं, लेकिन उनके रेडियोलॉजिकल परीक्षणों से पता चला है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता है। सीटी स्कैन में एक मरीज का स्कोर 25 में से 10 है। इसका मतलब है कि उसके फेफड़े पहले ही प्रभावित हो चुके हैं।”
संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. हितेन कारेलिया का कहना है कि उन्होंने कोरोना संदिग्धों को आरटी-पीसीआर परीक्षण के साथ-साथ एचआरसीटी टेस्ट करवाने के लिए कहना शुरू कर दिया है। उन्होंने ने कहा, “हम कई ऐसे मामलों को देख रहे हैं जिनमें मरीज को कोई लक्षण नहीं है। उन्हें सिर्फ हल्का बुखार और कमजोरी है। लेकिन संक्रमण तेजी से फेफड़ों तक फैला रहता है।”
नंद अस्पताल के एमडी डॉ. नीरज चावड़ा ने कहा, “RT-PCR की संवेदनशीलता 70 प्रतिशत है जिसका अर्थ है कि झूठी निगेटिव रिपोर्ट संभावना 30 प्रतिशत है। लेकिन अगर सीटी स्कैन में सबूत है, तो यह कोरोना काम मामला बनता है। ऐसे मामलों में, हम बार-बार परीक्षण के लिए जाते हैं।”
राजकोट में भी ऐसे ही मामले देखने को मिलते हैं। डॉ. जयेश डोबरिया ने कहा, “ऐसे कई मामले हैं जिसमें मरीज कोरोना निगेटिव है।, लेकिन सीटी स्कैन से निमोनिया का पता चलता है। यह सैंपलिंग प्रक्रिया और आरटी-पीसीआर टेस्ट की सीमाओं के कारण हो सकता है, जिसकी सटीकता लगभग 70 प्रतिशत है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *